शहीद के पिता ने कहा-मुझे हेलीकॉप्टर में बारूद भरकर दो पाकिस्तान में किसी को जिंदा नहीं छोड़ूंगा

0 60

पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले में शहीद भागलपुर के कहलगांव स्थित मदारगंज के जवान रतन कुमार ठाकुर के पिता राम निरंजन सिंह शुक्रवार सुबह 10.30 बजे जैसे ही अपने पैतृक गांव पहुंचे, फफक पड़े। उनके घर जुटी भीड़ देखते ही वे दहाड़ मारकर रोने लगे और बेहोश होकर गिर पड़े। जैसे-तैसे लोगों ने उन्हें संभाला। लेकिन गांव का हर शख्स की आंखें वृद्ध पिता की हालत देख कर आंखें नम हो गईं।

होश में आने के बाद पिता ने खुद को संभाला और कहा, पाकिस्तान आतंक फैला रहा है। मेरे बेटे की शहादत का दु:ख है, लेकिन पूरे गांव को उस पर गर्व है। मैं अपने दूसरे बेटे को भी देश पर न्योछावर करने को तैयार हूं। लेकिन पाकिस्तान को सबक सिखाना होगा। बोलते-बोलते उनकी आवाज भर आई। उन्होंने कहा, मैं इस हालत में खुद अपने ऊपर बारूद भरकर हेलिकॉप्टर से पाकिस्तान में कूदने को भी तैयार हूं। पाकिस्तान में कोई बचना नहीं चाहिए।

आतंकियों के इस कायराना हमले से ग्रामीण एक ओर उबले तो दूसरी ओर शोक में डूबे रहे। पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे से पूरा गांव गूंजता रहा। लेकिन गांव में पसरा शोक दिल दहलाता रहा। शहीद रतन के 80 वर्षीय दादा रिटायर्ड शिक्षक विश्वनाथ ठाकुर व दादी कौशल्या देवी बदहवास हो गई।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

टिप्पणियाँ
Loading...