Friday, April 3, 2020
Home Politics मोदी-शाह से मिलकर उध्दव ने दिया शरद-सोनिया को बड़ा झटका ? महाराष्ट्र...

मोदी-शाह से मिलकर उध्दव ने दिया शरद-सोनिया को बड़ा झटका ? महाराष्ट्र में फिर भाजपा ?

[ad_1]

जिस तरह से महाराष्ट्र के उद्धव ठाकरे ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और उसके बाद देश के गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की! जिसके बाद महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल आ गया है! वजह यह है कि शरद पवार पहले से ही नाश्ता संशोधन कानून और एनपीआर को लेकर बयान बाजी कर रहे थे! लेकिन अब उस कड़ी में कांग्रेस के बड़े-बड़े नेता शामिल हो गए हैं! कांग्रेस की प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे मनीष तिवारी ने उद्धव ठाकरे की समझ पर ही सवाल उठा दिया है! उन्होंने कहा कि उद्धव ठाकरे को संविधान को ढंग से समझने की जरूरत है! और नागरिकता संशोधन कानून को भी इन्हें ढंग से समझना चाहिए, तब जाकर बयान बाजी करनी चाहिए!

दूसरी ओर कांग्रेस के ही नेता संजय निरुपम ने कहा है कि उद्धव ठाकरे ने जिस तरह का स्टेप दिया है वह कांग्रेस के लिए परेशानी खड़ी कर सकता है! कांग्रेस पहले ही नागरिकता सानू और एनपीआर पर विरोध कर रही है! लेकिन उद्धव ठाकरे ने एकतरफा बयान देते हुए यह कहते हुए कि नागरिकता संशोधन कानून से किसी को कोई परेशानी नहीं है और यह किसी की नागरिकता नहीं लेने वाला है! सीधे तौर पर भारतीय जनता पार्टी का ही स्टैंड आगे बढ़ाने का काम किया है जो कि गलत है और कांग्रेस इससे पूरी तरह से विरोध में है! कांग्रेस पूरे देश में एनपीआर का विरोध कर रही है और शिवसेना के साथ महाराष्ट्र में उसकी सरकार है और वहां पर एनपीआर लागू होने जा रहा है! मुसीबत खड़ी कर दी है शिवसेना के उद्धव ठाकरे ने!

संजय निरुपम ने जो बात कही है वह सामान्य बात है लेकिन मनीष तिवारी ने जो कहा है उसका ज्यादा असर हो सकता है! जिसके ऊपर शिवसेना को जवाब देना होगा क्योंकि कांग्रेस का एक बड़ा नेता शिवसेना के मुख्यमंत्री की समझ पर सवाल उठा रहा है! उद्धव ठाकरे को अब समझना चाहिए एनपीआर का जो कानून है 2003 का, वह एनआरसी का बेस है! अगर राज्य में एनपीआर लागू होता है तो एनआरसी लागू होने से नहीं रोक सकते! यानी मनीष तिवारी अपने आप को ज्ञानी साबित करने के लिए उद्धव ठाकरे की समझ पर सवाल उठा रहे हैं! उद्धव ठाकरे को संविधान पढ़ने की सलाह दे रहा है और यह सलाह दे रहा है कि नागरिकता कानून को ढंग से पढ़ लीजिए!

ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि यह गठबंधन कैसे चलेगा? लेकिन इस कड़ी में शरद पवार का एक बयान आया है, जिसमें उन्होंने यह कहा कि यह गठबंधन तो पूरे 5 साल चलेगा! जब उनसे पूछा गया कि नागरिकता कानून और एनपीआर पर आपकी राय तो अलग अलग है? उन्होंने कहा कि हम उन्हें कोशिश करेंगे समझाने की! लेकिन अब क्या कोशिश होगी समझाने की क्योंकि उद्धव ठाकरे तो पहले ही अपने सारे पत्ते खोल चुके हैं! जो उनका रुख है वह किसी भी तौर पर भारतीय जनता पार्टी से अलग नहीं है!

शरद पवार ने एक बयान में उन्होंने कहा कि मनसे राज ठाकरे जो कुछ कर रहे हैं वह महाराष्ट्र की जरूरत है क्योंकि महाराष्ट्र में एक आक्रमक विपक्ष की जरूरत है! यानी सीधे तौर पर राज ठाकरे का समर्थन नहीं दिया लेकिन अगर राज ठाकरे इसी तरह की नीति अपनाएंगे तो आने वाले समय में निश्चित तौर पर शिवसेना का बहुत बड़ा वोट बैंक वह अपने कब्जे में कर लेंगे!

आदर्श के भैया जोशी ने संकेत दिया है कि जो महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री है वह अब ज्यादा दिनों तक पूर्व मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे! उनके कहने का तात्पर्य है कि जल्द ही देवेंद्र फडणवीस की सरकार वापस आएगी, वह एक बार फिर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनेंगे! जिस तरह से उद्धव ठाकरे प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात करके आए हैं! यह कयास लगाई जा रही है कि अगर गठबंधन में कोई भी दरार आई तो शिवसेना भारतीय जनता पार्टी के साथ जा सकती है!

यही कारण है जिसकी वजह से शरद पवार ने दावा किया है कि यह सरकार तो 5 साल तक चलेगी! कैसे चलेगी कौन इसको चलाएगा? कांग्रेस का इतिहास रहा है कि कांग्रेस कभी भी अपने समर्थक के साथ पूरा कार्यकाल नहीं कर पाई है! यह तब है जब कांग्रेस की तरफ से नेहरू से लेकर सोनिया गांधी तक जैसे बड़े-बड़े नेता, जिनके चलते आज तक कांग्रेस अपनी सहयोगी पार्टी के गठबंधन के साथ कार्यकाल पूरा नहीं कर पाई!

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Must Read

पंड्या ने ठोके 55 गेंदों में 158 रन, डॉ. डी.वाय. पाटिल टी20 कप में लगाया तीसरा शतक

टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या इस वक्त शानदार फॉर्म में चल रहे है। वह इस वक्त डॉ. डी.वाय. पाटिल टी20 कप...

महिला टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में पत्नी एलिसा को सपोर्ट करने स्वदेश लौटेंगे मिशेल स्टार्क

ऑस्ट्रेलिया की पुरुष क्रिकेट टीम के स्टार तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क दक्षिण अफ्रीका दौरा बीच में छोड़कर ऑस्ट्रेलिया रवाना होंगे। दरअसल 8 मार्च...

कमलनाथ सरकार का संकट और गहराया, दिग्विजय फंसे अपने हीं जाल में

मध्यप्रदेश में राजनीतिक घटनाक्रम लगातार बदल रहे हैं! सपा विधायक राजेश शुक्ला ने विधायकों को बंधक बनाए जाने और करोड़ों रुपये के प्रस्तावों...