Friday, April 3, 2020
Home News World चीन ने अपने स्वार्थ के लिए डाल दिया है पूरी दुनिया को...

चीन ने अपने स्वार्थ के लिए डाल दिया है पूरी दुनिया को खतरे में, काबू कर सकता था इस वायरस पर किंतु किया नहीं

[ad_1]


चीन को दुनिया के अन्य देशों से दूर परीक्षण करने या शुरू से छिपाने की आदत रही है और यह आदत आज चीन में महामारी का कारण बन गई है! आज चीन अपने देश में फैले कोरोना वायरस की चपेट में है और इसका कारण यह है कि चीन इस बीमारी के फैलने पर प्रतिक्रिया नहीं देता है और इसे दुनिया से छिपाने की कोशिश करता है! टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना वायरस का पहला मामला दिसंबर की शुरुआत में आया था, लेकिन 20 जनवरी को कार्रवाई शुरू होने तक, यह बीमारी एक भयानक महामारी में बदल गई थी!

इसे अब वैश्विक आपातकाल घोषित कर दिया गया है! इस कारण से, दुनिया भर के देशों ने अपने नागरिकों के चीन जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है! आलम यह है कि वायरस ने वित्तीय बाजारों को हिला दिया है! जब वायरस पहली बार फैलने लगा, तो चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों के बीच इसकी चर्चा होने लगी! सवाल उठने लगे थे कि क्या साल 2002 की तरह साइरस वायरस फिर से वापस आ गया था, तब बड़े अधिकारियों ने मामले को दबाने की कोशिश शुरू की! उन्होंने कोरोना वायरस से निपटने के बजाय इसे दबाने का फैसला किया! सत्तारूढ़ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने अपने राष्ट्रपति शी जिनपिंग की वैश्विक छवि की आशंका जताई! इस छवि को बचाने के प्रयास में, कई लोगों को अफवाहें फैलाने के लिए गिरफ्तार किया गया था! लेकिन आज वही अफवाह सच हो गई है और चीन में अकेले 490 लोगों की मौ’त हो गई है और 24 हजार मामलों की पुष्टि हुई है!

महामारी से निपटने के लिए सरकार के शुरुआती दृष्टिकोण ने वायरस को बड़े पैमाने पर फैलने की अनुमति दी! इस महत्वपूर्ण समय में, चीनी अधिकारियों ने राजनीतिक शर्मिंदगी से बचने के लिए इस संकट को गोपनीय रखने का फैसला किया! दिसंबर की शुरुआत में, वायरस के लक्षण पाए जाने के सात सप्ताह बाद वुहान शहर को बंद करने का फैसला किया गया! इस फैसले में देरी चीन पर भारी पड़ी! चीनी अधिकारियों को भ्रम हुआ कि यह एक बड़ा मामला नहीं था क्योंकि जब वायरस के पहले मामलों की सूचना मिली थी, तो वुहान प्रशासन ने एक बयान जारी किया था: “रोग निवारक और नियंत्रणीय है!” जब वुहान के मेयर झोउ जियानवांग ने जनवरी में शहर की पीपल्स कांग्रेस को अपनी वार्षिक रिपोर्ट दी, जब उन्होंने शहर के शीर्ष-श्रेणी के मेडिकल स्कूलों, एक विश्व स्वास्थ्य एक्सपो और चिकित्सा कंपनियों के लिए एक रिपोर्ट लिखी! Ucristik उद्योग ने पार्क का वादा किया था! उस दौरान उन्होंने या किसी अन्य प्रांतीय नेता ने वायरस के प्रकोप का उल्लेख नहीं किया! इस तरह, इस महामारी के लिए चीनी सरकार को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए क्योंकि उसके अड़ियल रवैये ने इस घातक कोरोना वायरस को पूरी दुनिया में इतना फैलने दिया! चीन की कम्युनिस्ट पार्टी अपनी महत्वाकांक्षा के लिए बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव ले सकती है लेकिन अपने नागरिकों की सुरक्षा करने में विफल रही है!

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Must Read

पंड्या ने ठोके 55 गेंदों में 158 रन, डॉ. डी.वाय. पाटिल टी20 कप में लगाया तीसरा शतक

टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या इस वक्त शानदार फॉर्म में चल रहे है। वह इस वक्त डॉ. डी.वाय. पाटिल टी20 कप...

महिला टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में पत्नी एलिसा को सपोर्ट करने स्वदेश लौटेंगे मिशेल स्टार्क

ऑस्ट्रेलिया की पुरुष क्रिकेट टीम के स्टार तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क दक्षिण अफ्रीका दौरा बीच में छोड़कर ऑस्ट्रेलिया रवाना होंगे। दरअसल 8 मार्च...

कमलनाथ सरकार का संकट और गहराया, दिग्विजय फंसे अपने हीं जाल में

मध्यप्रदेश में राजनीतिक घटनाक्रम लगातार बदल रहे हैं! सपा विधायक राजेश शुक्ला ने विधायकों को बंधक बनाए जाने और करोड़ों रुपये के प्रस्तावों...