Tuesday , August 4 2020
Breaking News

अगर यह विधायक BJP के बजाय कांग्रेस या अन्य पार्टी में होता तो बर्खास्त कर दिया जाता: पढ़ें क्यों

आज हम आपको मिलवाने जा रहे हैं बीजेपी विधायक नलिन कोटाडिया से. नलिन कोटाडिया गुजरात के धारी से बीजेपी विधायक हैं लेकिन पिछले दो वर्षों से ये बीजेपी ने नाराज हैं. मतलब बीजेपी में रहकर ही बीजेपी से दुश्मनी ले रहे हैं. इन्होने पटेल आन्दोलन का भरपूर समर्थन किया और पार्टी के खिलाफ गए उसके बाद भी इनपर कोई एक्शन नहीं लिया गया. ये हमेशा पटेल आन्दोलन के खिलाफ सरकार की कार्यवाही की निंदा करते रहे, उसके बाद भी पार्टी ने इनके खिलाफ कोई एक्शन नहीं किया.

हाल ही में जब राष्ट्रपति चुनाव हुए तो इन्होने कांग्रेस उम्मीदवार मीरा कुमार को वोट किया और उससे पहले प्रेस को बता दिया कि मैं रामनाथ कोविंद को वोट नहीं दूंगा क्योंकि बीजेपी सरकार ने 14 पाटीदारों की हत्या की है और मैं इससे नाराज हूँ. इन्होने मीरा कुमार को वोट दिया लेकिन पार्टी ने इनपर कोई एक्शन नहीं लिया.

जब हाल ही में गुजरात में राज्य सभा चुनाव हुए तो इन्होने पार्टी लाइन से हटकर कांग्रेस उम्मीदवार अहमद पटेल को वोट दे दिया और वोट देने के बाद फेसबुक पर पोस्ट लिखकर बता भी दिया कि उन्होंने बीजेपी को वोट क्यों नहीं दिया. उन्होने कहा कि मेरी अंतरात्मा की आवाज सुनकर मैंने बीजेपी को इसलिए वोट नहीं दिया क्योंकि बीजेपी सरकार ने पटेल आन्दोलन को बलपूर्वक दबाने की कोशिश की और 14 लोगों की हत्या की.

आपको बता दें कि अहमद पटेल मात्र आधे वोटों के अंतर से चुनाव जीते हैं, अगर नलिन कोटाडिया उन्हें वोट नहीं देते तो अहमद पटेल चुनाव ना जीतते लेकिन नलिन कोटडिया ने अपनी ही पार्टी को हराकर कांग्रेस के मनोबल को बढाने का काम किया उसके बाद भी इनपर कोई एक्शन नहीं लिया गया और ना ही किसी बीजेपी नेता ने इनके खिलाफ कोई बयान दिया.

कहने का मतलब ये है कि लगातार बीजेपी के खिलाफ जा रहे हैं, लगातार बीजेपी के खिलाफ मतदान कर रहे हैं उसके बावजूद भी इन्हें पार्टी से नहीं निकाला गया. अगर ये कांग्रेस या किसी अन्य पार्टी में होते तो अब तक इन्हें कबका निकाल दिया गया होता. हाल ही में जिन कांग्रेसियों ने बीजेपी को वोट दिया है उन्हें निकालने की कोशिश चल रही है, हाल ही में त्रिपुरा के 6 TMC विधायकों ने रामनाथ कोविंद को वोट दिया था तो उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया लेकिन बीजेपी में ऐसा कुछ नहीं होता. ऐसा लगता है कि सबसे मजबूत लोकतंत्र बीजेपी में ही है.

About Kanhaiya Kumar

Check Also

जज लोया के सभी केस अब SC में, कोर्ट ने कहा-दस्‍तावेजों पर होगी सुनवाई, न्‍यूज में जो छपा उस पर नहीं

नई दिल्ली: सीबीआई के विशेष न्यायाधीश बीएच लोया की मौत की स्वतंत्र जांच की याचिका …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *